समय यात्रा करते समय कैसे हुई Rudolf Fenz की मौत | Time travel real story with proof | Mystery in hindi

 

Time travel real story with proof

समय यात्रा करते समय कैसे हुई Rudolf Fenz की मौत

समय एक ऐसा phenomena (घटना) है जिसने पूरे ब्रह्मांड को खुद में समेट रखा है। लेकिन देखने में यह जितना सरल लगता है इसे समझ पाना उतना ही मुश्किल है। ऐसा माना जाता है कि समय ऐसी इकाई है जो निरंतर आगे बढ़ती रहती है और इसे बदला या repeat  नहीं किया जा सकता। लेकिन समय-समय पर ऐसी घटनाएं और व्यक्ति सामने आते रहते हैं जो यह दावा करते हैं कि उन्होंने समय यात्रा की है। समय यात्रा का दावा करने वाले लोगों पर बहुत से लोग इस वजह से विश्वास नहीं करते क्योंकि समय यात्रा से जुड़े दावा करने वालों के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं होते । लेकिन आज मै आपको समय यात्रा से जुड़ी एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसके अनेकों ऐसे सबूत मौजूद थे। जो इस समय यात्रा को सच साबित करने के लिए काफी थे। तो चलिए जानते है समय यात्रा करते समय कैसे हुई Rudolf Fenz की मौत…

जून 1951 के मध्य की एक रात करीब 11:15 बजे New York के Time Square पर अचानक एक आदमी प्रकट होता है। वह अचानक बीच चौराहे पर कैसे आया किसी को पता नहीं चला। उस व्यक्ति ने बहुत पुराने समय के फैशन वाले कपड़े पहन रखे थे। उस व्यक्ति के हाव भाव से साफ पता चल रहा था कि वह वहां अपनी मौजूदगी से बेहद हैरान था। वो Time Square पर मौजूद गाड़ियों और हर तरफ फैली चमचमाती रोशनियों को आश्चर्य भरी नजरों से देख रहा था और वहां खड़े लोग भी उस व्यक्ति को उतनी ही हैरानी से देख रहे थे। किसी ने भी उसे सड़क के बीचो-बीच जाते हुए नहीं देखा था। जैसे ही वह व्यक्ति सड़क के किनारे आने के लिए आगे बढ़ा सामने से आती हुई कार से उसकी टक्कर हो गई जिससे वो व्यक्ति बुरी तरह घायल हो गया और कुछ ही देर में उसकी जान चली गई। 

जब उसकी तलाशी ली गई तो उसके पास से कुछ बेहद अजीबोगरीब और हैरान कर देने वाली चीजें बरामद हुई जैसे कि 5 cent (जैसे India में 1 रूपए में 100 पैसे होते है वैसे ही वहा पे $1 में  100 cents होते है) का एक बीयर टोकन। घोड़ा गाड़ी की सफाई करने का एक बिल जिस पर पता लिखा था Livery Stable Lexington avenue. 1951 के किसी भी एड्रेस बुक में यह पता मौजूद नहीं था। लगभग $70 की पुरानी करेंसी के नोट और सिक्के भी उस व्यक्ति के पास से मिले। इसके अलावा एक बिजनेस कार्ड मिला जिस पर नाम लिखा था Dr. Rudolf Fenz और एड्रेस फिफ्थ एवेन्यू न्यू यॉर्क। साथ ही साथ उसके पास से एक लेटर भी मिला जिसे वे न्यूयॉर्क से फिलाडेल्फिया भेजा जाना था और उस लेटर पर सन 1876 कि stamp भी लगी हुई थी। 

 
 
Dr. Rudolf Fenz and his business card

Rudolf Fenz के इस व्यक्ति के पास से मिली सभी चीजों में एक बात ख़ास थी। वह  यह थी कि यह सारी चीजें पुराने होने के बावजूद बिल्कुल नई हालात में था। इस केस की छान बिन का जिम्मां Captain Hubert V  Rihm को दिया गया। Captain Hubert जब बिजनेस कार्ड पर दिए एड्रेस फिफ्थ एवेन्यू पर पर पहुंचे तो उस एड्रेस पर उन्हें एक ऑफिस मिला। जहां के लोग Rudolf Fenz के इस नाम के किसी भी व्यक्ति को नहीं जानते थे। Captain Hubert ने उस समय की सभी टेलीफोन डायरेक्टरी और एड्रेस बुक को चेक किया।  लेकिन उन्हें इस नाम के किसी भी व्यक्ति का कोई भी अता-पता नहीं मिल सका। इस घटना को कई दिन बीत जाने के बावजूद किसी भी पुलिस स्टेशन में Rudolf Fenz नाम के किसी भी व्यक्ति की missing रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई थी। 

किसी भी सुराग के अभाव में Captain Hubert ने अपनी तहकीकात को जारी रखा और एक दिन सन 1939 की एक एड्रेस बुक में Rudolf Fenz Junior नाम के एक व्यक्ति का एड्रेस मिला। उस एड्रेस पर पहुंचकर यह पता चला कि अब उस पते पर कोई और रहता है। जिन्होंने  Rudolf Fenz Junior नाम के इस व्यक्ति से यह प्रॉपर्टी खरीद ली थी। जैसे तैसे  Rudolf Fenz Junior के बैंक अकाउंट की डिटेल Captain Hubert को मिल गई। बैंक से पता चला कि अब  Rudolf Fenz Junior के बैंक अकाउंट को बंद कर दिया गय  क्युकि उनकी 5 साल पहले ही मौत हो चुकी है। लेकिन उनकी बीवी अभी भी जिंदा थी और फ्लोरिडा में कहीं रहती थी। 

Captain Hubert ने फ्लोरिडा के उस एड्रेस पर जाकर Rudolf Fenz के बारे में पता किया। वहां Rudolf Fenz Junior की पत्नी ने जो बताया उसे सुनकर Captain Hubert हैरान रह गए। उनकी पत्नी ने बताया कि Rudolf Fenz , Rudolf Fenz junior के पिता थे। जोकि 29 वर्ष की आयु में सन 1876 में लापता हो गए थे। वह अपने घर से एक शाम शैर करने के लिए निकले थे और फिर कभी वापस नहीं लौटे। यह जानकर Captain Hubert और उनके साथी हैरत में थे। किसी को कुछ भी नहीं समझ में आ रहा था आखिर ऐसा कैसे हो सकता है। अपनी जिज्ञासा के चलते Captain Hubert ने सन 1876  के सभी गुमसुदा रिपोर्ट के रिकॉर्ड को खंगालना शुरू कर दिया और एक दिन उनके हाथ लगी Rudolf Fenz नाम के एक व्यक्ति की 1876 की missing(गुमशुदा) रिपोर्ट। 

इस missing रिपोर्ट में गुमशुदा का हुलिया के जो विवरण दिया गया था। वो 1951 में मरने वाले Rudolf Fenz से मेल खाता था। Captain Hubert द्वारा जुटाए गए सबूतों से यह तो साबित हो गया था कि मिसिंग रिपोर्ट वाला Rudolf और 1951 में कार एक्सीडेंट में मारा गया Rudolf एक ही व्यक्ति है। लेकिन आखिर 1876 में गायब हुआ व्यक्ति 1951 में कैसे पहुंचा। इस बात का जवाब आज तक कोई नहीं दे पाया। बस कुछ Theories है जो कहती हैं कि यह time travel या time slip से जुड़ी एक घटना थी। Rudolf ने अचानक समय यात्रा की थी।  

तो  कैसा लगा आपको हमारे इस blog समय यात्रा करते समय कैसे हुई Rudolf Fenz की मौत |Time travel real story with proof का analysis. आप है comment के माध्यम से बता सकते है
Thanks

team mysteryinhindi.in




One thought on “समय यात्रा करते समय कैसे हुई Rudolf Fenz की मौत | Time travel real story with proof | Mystery in hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

TimeTravel

समय यात्रा का रहस्य? | क्या समय यात्रा संभव है? | Mystery in hindi

  समय यात्रा का रहस्य ? | क्या समय यात्रा संभव है ?    आपने ये जरूर सुना होका और बहुत सारी फिल्मो में देखा भी होगा की हम की हम time machine के जरिये समय यात्रा कर सकते है।Time travel यानि समय यात्रा, ये दुनिया की सबसे interesting और सबसे विवादस्पद टॉपिक में से एक है। तो आइये आज जानते […]

Read More
TimeTravel

Real story of time slip | Mystery of the magical hotel | Mystery in hindi

The magical hotel  1979 में  जिओफ सिमसन और उसकी वाइफ और उसके दो दोस्त फ्रांस घूम रहे थे। उन्होंने बहुत सारे जगह को देखा और जब वो घूमते घूमते थक गए तब उन्होंने होटल बुक करने का सोचा। एक जगह उन्हे एक बहुत अलग दिखने वाली एक अजीब सा होटल दिखा। उस होटेल ने इनका ध्यान खींच लिया और उन्होंने […]

Read More
TimeTravel

Real story of time travel | 2030 से आया एक व्यक्ति | Mystery in hindi

Real Story Of Time Travel… एक व्यक्ति जो इंटरनेट पे Noah (नोहा) नाम से मशहूर हैं उसका ये दावा है कि वो साल 2030 से आया है और यह भी बात प्रचलित है कि इस इंसान ने lie detector test को भी पास किया है। lie detector (लाई डिटेक्टर) उस मशीन को कहते हैं जो ये पता करती है कि आप सच बोल रहे […]

Read More